क्या आपने इस पिटेशन को साइन किया है क्या आप कैंट रोड को सेव करना चाहते हैं साइन करें

0
1007

क्या आपने इस पिटेशन को साइन किया है क्या आप कैंट रोड को सेव करना चाहते हैं साइन करें

गवर्नमेंट ऑफ इंडिया ने अभी तक 62 कैंटोमेंट रोड पब्लिक के लिए खोलें हैं उसके लिए डिफेंस के कई लोग भारत सरकार से अपनी सेफ्टी के लिए मांग कर रहे हैं

जिन्हें आस्था बग्गा ने याचिका डालकर डिफेंस के लोगों को इस याचिका पर साइन करने को और लोगों को भी इस याचिका पर साइन करने को बोला है और लोगों को यह बताया कि डिफेंस अगर सिक्योर रहेगी तो बाहर से क्यों रहेगा।

आस्था बग्गा याचिकाकर्ता का कहना है कि अगर कैंट रोड को लोगों के लिए खोल दिया जाएगा तो इसमें सबसे बड़ी हानि टेंट में रहने वाले लोगों की है जो लोग अपनी सीमाओं पर सुरक्षा करने जाते हैं उनकी घर में सुरक्षा कौन करेगा कभी कभी उनके परिवार में अकेले लेडीस ही रहती हैं या बच्चे रहते हैं उससे उनको सिक्योरिटी में दिक्कत आ सकती है।
ऐसे आमतौर पर जब भी हम कैंट रोड में जाते हैं तब वहां पर आज एंटिटी पहचान पत्र के रूप में देखने के बाद ही इंट्री मिलती है अगर आप लोगों के लिए खोल दिया गया तो लोग बिना रोक-टोक के आया जाया करेंगे जिसमें से हो सकता है कुछ अराजकतत्व भी हो जिससे कैंट रोड में रहने वाले लोगों के ऊपर खतरा बन सकता है।
कैंट रोड में रहने वाले सारे आर्मी नेवी या इंदौर के परिवार वाले होते हैं जो सरहद पर रहकर की सेवा में लगे रहते हैं अगर वह लोगों की फैमिली की शिक्षाओं नहीं रहेगी तो वह देश की सेवा कैसे करेंगे।

पिटेशन
Can you help me out by signing this petition?

https://chn.ge/2GI90TU

“” Defense Minister’s latest move to open 62 cantonment roads to public is gravely wrong as it will stake the security of cantonment by allowing infiltration of the unknown. Previously, Local Military Authority (LMA) spent about Rs.70 lakh on setting up barricades and gates to permanently close all roads. No doubt this move will benefit the civilian world, but in the same, it will make army personals and their families susceptible to misfortunes of the unguarded world. Scars of Kaluchak, Pathankot and Sanjua(Jammu) are yet to be healed. While the people are welcoming this move with felicitations, it is for the length and breadth of the county to realize that we should stand up for the army that stands for us day and night, guarding our borders. Let us guard their families, who make our lives with our families safer and secure.

Jai Hind “”

आस्था बग्गा कै पिटेशन में में यह कहा गया है कि अगर सरकार को यह कदम उठाना ही है तो वह अन्य रोडे या कोई अदर विकल्प ढूंढे जिससे सरकार को और लोगों को कोई दिक्कत ना हो और टेंट में रहने वाले लोगों को भी अपनी सिक्योरिटी का एहसास रहे कि वह सिक्योर है।

द न्यूज़ खास बातचीत में आस्था बग्गा ने बोला कि वह इस मिशन को लेकर प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति के पास भी जाएंगे और बताएंगे कि हमारी सुरक्षा का भी दायित्व सरकार के ऊपर ही है

भारत सरकार ने जो अभी रोड़े खोली हैं उनसे सिविलियन को तो बहुत फायदा होगा ही छोटे रास्ते ही मिल जाएंगे ।
आपने अपने फैमिली को क्योर करने के लिएडिफेंस मिनिस्टर ने 16 कैंटोमेंट रोड जो पब्लिक के लिए खोल दिए हैं आप भी जानते हैं कि यह सिक्योरिटी परपज पर कितना फर्क पड़ेगा आज लोकल मिलिट्री अथॉरिटी 7000000 ऑन सेटिंग बेरीकेट्स गेट और गेट बंद करने पर लगाएं हैं।
इसमें कोई दो राय नहीं है यह सिविल लोगों के लिए फायदेमंद।

भारत सरकार
http://pib.nic.in/newsite/PrintRelease.aspx?relid=179420

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here